समुद्र के जरिए ऑपरेशन करने के लिए आतंकवादियों को प्रशिक्षित किए जाने की रिपोर्ट हैः नौसेना प्रमुख

नई दिल्लीः पुलवामा हमले के बाद, नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा ने मंगलवार को चेतावनी दी कि समुद्र के माध्यम से आतंकवादियों को प्रशिक्षित करने के बारे में रिपोर्टें हैं। भारत-प्रशांत क्षेत्रीय वार्ता में वैश्विक विशेषज्ञों की एक सभा को संबोधित करते हुए, लांबा ने कहा कि पुलवामा हमला चरमपंथियों द्वारा किया गया था जो ‘‘एक राज्य द्वारा सहायता प्राप्त थे जो भारत को अस्थिर करने का प्रयास करता है। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे पास समुद्र के माध्यम सहित विभिन्न मोडस ऑपरेंडी में आतंकवादियों को प्रशिक्षित करने की भी रिपोर्ट है।

26-11 का हमला लश्कर-ए-तैयबा के 10 समुद्री-आतंकियों द्वारा किया गया था, जिन्होंने मुंबई में पहुंचने और तबाही मचाने के लिए भारतीय मछुआरों को मार डाला। नौसेना प्रमुख ने कहा कि दुनिया के इस हिस्से ने हाल के वर्षों में आतंकवाद के कई रूपों को देखा है और इस क्षेत्र के कुछ देशों को बख्शा गया है। लैनबा ने कहा कि हाल के समय में वैश्विक प्रकृति ने जो आतंकवाद का अधिग्रहण किया है, उसने इस खतरे का दायरा बढ़ा दिया है। भारत, हालांकि, ‘‘राज्य-प्रायोजित आतंकवाद के ‘‘अधिक गंभीर संस्करण का सामना करता है, उन्होंने कहा।

नौसेना प्रमुख ने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा, ‘‘ हमने हाल ही में जम्मू-कश्मीर में चरमपंथी हमले का भयानक स्तर करीब तीन सप्ताह पहले देखा था। 14 फरवरी को, पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद (जेएम) के एक आत्मघाती हमलावर ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में एक विस्फोटक से भरे वाहन को टक्कर मार दी, जिसमें 40 केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवान मारे गए ‘‘हमने देखा है कि दुनिया भर में आतंकी समूह कितनी जल्दी विकसित होते हैं। आतंक का एक विशेष ब्रांड निकट भविष्य में वैश्विक समस्या बन सकता है,‘‘ लैनबा ने चेतावनी दी।

भारतीय सुरक्षा प्रतिष्ठान इस खतरे को दूर करने के लिए लगातार काम कर रहे हैं, उन्होंने कहा कि ‘‘यह जरूरी है कि वैश्विक समुदाय अपने सभी रूपों में आतंकवाद को समाहित करने और समाप्त करने के लिए काम करे। लांबा ने भारत-प्रशांत क्षेत्र के महत्व पर भी जोर दिया। ‘‘समुद्र पर दुनिया का एक नया ध्यान केंद्रित है। यह मुख्य रूप से समुद्री डोमेन के भू-आर्थिक और भू-राजनीतिक महत्व के कारण है।

भारत एक मार्शल राष्ट्र है और हाल ही में, देश के विकास और क्षेत्रीय विकास के लिए समुद्री डोमेन की क्षमता बढ़ाने पर ध्यान दिया गया है। यह घटना ‘‘पानी में झूठ बोलने वाली चुनौतियों और अवसरों की पहचान और संकल्पना करना, और सभी हितधारकों के पारस्परिक लाभ के लिए रणनीति विकसित करना चाहती है लान्बा ने कहा। ‘‘यह व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है कि भारत-प्रशांत क्षेत्र हाल के वर्षों में आर्थिक, राजनीतिक और अन्य कारणों से भू-राजनीतिक महत्व में बढ़ रहा है,‘‘ उन्होंने कहा। लांबा ने भारत के साथ इस क्षेत्र की प्राचीन और ऐतिहासिक कड़ी और देश के लिए इसके महत्व को रेखांकित किया।