राहुल ने मोदी पर लगाया अमेठी आयुध कारखाने पर झूठ बोलने का आरोपय स्मृति ने बाजी मार ली

राहुल गांधी ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कांग्रेस अध्यक्ष के संसदीय क्षेत्र अमेठी में एक अध्यादेश इकाई के उद्घाटन के बारे में झूठ बोलने का आरोप लगाया, उन्होंने दावा किया कि उन्होंने खुद 2010 में कारखाने की आधारशिला रखी थी। उनकी टिप्पणी ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से तत्काल प्रतिक्रिया व्यक्त की, जिन्होंने कहा कि गांधी ‘‘डरे हुए हैं और यह नहीं देख सकते कि अमेठी के कोरवा इलाके में नई सुविधा भारत और रूस के बीच एक संयुक्त उद्यम था जो सशस्त्र बलों के लिए एके-203 राइफल का निर्माण करेगा।

गांधी ने दावा किया था कि उन्होंने 2010 में आधारशिला रखी थी और सालों से यह कारखाना छोटे हथियारों का उत्पादन कर रहा है। “प्रधान मंत्री जी, मैंने खुद 2010 में अमेठी में ऑर्डिनेंस फैक्ट्री की आधारशिला रखी थी। पिछले कई वर्षों में, वहाँ छोटे हथियारों का निर्माण किया जा रहा है।

उन्होंने हिंदी में एक ट्वीट में कहा, ‘‘आप कल अमेठी गए और एक झूठ बोला, जो आप करने के आदी हैं। क्या आपको जरा भी शर्म नहीं है।

उनका हमला एक दिन बाद हुआ जब मोदी ने गांधी पर ‘‘झूठ बोलने और अमेठी में आयुध कारखाने की अनदेखी करने का आरोप लगाया, और उन पर कटाक्ष करते हुए कहा कि इकाई में निर्मित राइफल को ‘‘मेड इन अमेठी के रूप में जाना जाएगा। गांधी के ट्वीट के तुरंत बाद, ईरानी, जिन्होंने 2014 के आम चुनाव में निर्वाचन क्षेत्र से असफल रूप से चुनाव लड़ा था, ने ट्विटर पर हिंदी में जवाब दिया।

राहुल गांधी ने ट्वीट में राहुल गांधी को टैग करते हुए लिखा है, ‘‘आप अमेठी में विकास देख कर डर गए हैं। आपने नहीं देखा कि कोरवा में एक जेवी का उद्घाटन किसने किया था। भारत और रूस के बीच एके -203 राइफल का निर्माण होगा। । रविवार को अमेठी में मोदी ने कहा, ‘‘कुछ लोग ‘उज्जैन में बने जयपुर में बने जैसलमेर में बने‘ के भाषण देते हुए घूमते हैं … यह मोदी है। अब ‘मेड इन अमेठी‘ एके होगा। एके -203 राइफलें। यह हमारे जवानों की मदद करेगी। ” उन्होंने गांधी का नाम नहीं लिया।