पायलट अभिनंदन ने सौंपे जाने से पहले पाक द्वारा वीडियो स्टेटमेंट रिकॉर्ड किया था

लाहौरः सूत्रों के अनुसार, पाकिस्तान में पायलट अभिनंदन वर्थमान को वाघा में भारत को सौंपने में देरी हो गई क्योंकि उन्हें सीमा पार करने से पहले पाकिस्तानी अधिकारियों द्वारा कैमरे पर एक बयान दर्ज करने के लिए कहा गया था। यह स्पष्ट नहीं था कि क्या वह वीडियो को ड्यूरेस के तहत रिकॉर्ड करने के लिए बनाया गया था। रात 8.30 बजे (स्थानीय) समय पर, पाकिस्तान सरकार ने स्थानीय मीडिया को पायलट का वीडियो संदेश जारी किया, जिसमें उसने कहा कि उसे कैसे पकड़ा गया।
एक सूत्र ने कहा, ‘‘उनके वीडियो संदेश की रिकॉर्डिंग में उनके सौंपने में देरी हुई,‘‘।
वीडियो संदेश में, वर्थमान ने कहा कि उन्होंने ‘‘लक्ष्य खोजने के लिए पाकिस्तान के अंतरिक्ष में प्रवेश किया, लेकिन उनके विमान को गोली मार दी गई। भारतीय मीडिया की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘सेना के जवानों ने मुझे भीड़ से बचाया। पाकिस्तानी सेना बहुत ही पेशेवर है और मैं इससे प्रभावित हूं।
भारत ने इस बात को बरकरार रखा है कि जब वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकवाद-रोधी अभियान चलाया था, उसके 27 फरवरी को जम्मू-कश्मीर में भारतीय वायु सेना के ठिकानों को निशाना बनाने के प्रयास में भारतीय वायु सेना के विमानों द्वारा नाकाम किए जाने पर वर्थमान के विमान को नीचे गिरा दिया गया था। वह विमान से बाहर निकल गया, लेकिन पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में चला गया जहां उसे पाकिस्तानी सेना ने हिरासत में ले लिया। हालांकि इस बात का कोई आधिकारिक शब्द नहीं है कि उन्हें शुक्रवार को वाघा सीमा पर किस समय लाया गया था, लेकिन सूत्रों का कहना है कि वह शाम 4 बजे के बाद लाहौर पहुंचे। पाकिस्तानी मीडिया ने बताया कि ‘‘उनके कागजात वाघा इमिग्रेशन में जांचे जा रहे थे इसीलिए उन्हें ‘‘तुरंत भारतीय अधिकारियों को नहीं सौंपा जा रहा था। वर्थमान को रात लगभग 9.20 बजे (आई एस टी) सौंप दिया गया।